लिंगाष्टकम

ब्रह्ममुरारिसुरार्चित लिगं निर्मलभाषितशोभित लिंग |
जन्मजदुःखविनाशक लिंग तत्प्रणमामि सदाशिव लिंगं॥१

मैं उन सदाशिव लिंग को प्रणाम करता हूँ जिनकी ब्रह्मा, विष्णु एवं देवताओं द्वारा अर्चना की जाति है, जो सदैव निर्मल भाषाओं द्वारा पुजित हैं तथा जो लिंग जन्म-मृत्यू के चक्र का विनाश करता है (मोक्ष प्रदान करता है)

देवमुनिप्रवरार्चित लिंगं, कामदहं करुणाकर लिंगं|
रावणदर्पविनाशन लिंगं तत्प्रणमामि सदाशिव लिंगं॥२

देवताओं और मुनियों द्वारा पुजित लिंग, जो काम का दमन करता है तथा करूणामयं शिव का स्वरूप है, जिसने रावण के अभिमान का भी नाश किया, उन सदाशिव लिंग को मैं प्रणाम करता हूँ।

सर्वसुगंन्धिसुलेपित लिंगं, बुद्धिविवर्धनकारण लिंगं|
सिद्धसुरासुरवन्दित लिंगं, तत्प्रणमामि सदाशिव लिंगं॥३

सभी प्रकार के सुगंधित पदार्थों द्वारा सुलेपित लिंग, जो कि बुद्धि का विकास करने वाल है तथा, सिद्ध- सुर (देवताओं) एवं असुरों सबों के लिए वन्दित है, उन सदाशिव लिंक को प्रणाम।

कनकमहामणिभूषित लिंगं, फणिपतिवेष्टितशोभित लिंगं|
दक्षसुयज्ञविनाशन लिंगं, तत्प्रणमामि सदाशिव लिंगं॥४

स्वर्ण एवं महामणियों से विभूषित, एवं सर्पों के स्वामी से शोभित सदाशिव लिंग जो कि दक्ष के यज्ञ का विनाश करने वाल है ; आपको प्रणाम।

कुंकुमचंदनलेपित लिंगं, पंङ्कजहारसुशोभित लिंगं|
संञ्चितपापविनाशिन लिंगं, तत्प्रणमामि सदाशिव लिंगं॥५

कुंकुम एवं चन्दन से शोभायमान, कमल हार से शोभायमान सदाशिव लिंग जो कि सारे संञ्चित पापों से मुक्ति प्रदान करने वाला है, उन सदाशिव लिंग को प्रणाम ।

देवगणार्चितसेवित लिंग, भवैर्भक्तिभिरेवच लिंगं|
दिनकरकोटिप्रभाकर लिंगं, तत्प्रणमामि सदाशिव लिंगं॥६

आप सदाशिव लिंग को प्रणाम जो कि सभी देवों एवं गणों द्वारा शुद्ध विचार एवं भावों द्वारा पुजित है तथा जो करोडों सूर्य सामान प्रकाशित हैं।

अष्टदलोपरिवेष्टित लिंगं, सर्वसमुद्भवकारण लिंगं|
अष्टदरिद्रविनाशित लिंगं, तत्प्रणमामि सदाशिव लिंगं॥७

आठों दलों में मान्य, एवं आठों प्रकार के दरिद्रता का नाश करने वाले सदाशिव लिंग सभी प्रकार के सृजन के परम कारण हैं – आप सदाशिव लिंग को प्रणाम।

सुरगुरूसुरवरपूजित लिंगं, सुरवनपुष्पसदार्चित लिंगं|
परात्परं परमात्मक लिंगं, ततप्रणमामि सदाशिव लिंगं||

दवताओं एवं देव गुरू द्वारा स्वर्ग के वाटिका के पुष्पों से पुजित परमात्मा स्वरूप जो कि सभी व्याख्याओं से परे है – उन सदाशिव लिंग को प्रणाम।

27 thoughts on “लिंगाष्टकम

  1. भाई श्री,
    आपका बहुत-बहुत धन्यवाद । इस तरह यह स्तोत्र का सरल हिन्दी अनुवाद हमारे तक पहोंचाने के लीये आपका धन्यवाद ।

  2. priya bandhu sadar naman!
    mera nivedan hae ki uprokt mantron ka adieo param pujya p. ramesh bhai ojha ke svar men ya shri s. b. balasubhramanium ki aavaj men shivbhkton ko uplabdh karane ki kirpa karen , aapka aabhari rahunga ,sadar dhanyavad.

    प्रिय बन्धु सादर नमन !
    मेरा निवेदन है कि उपरोक्त मंत्रों के गान परम पुज्य रमेश भाई ओजा या श्री बालासुभ्रमन्यम के स्वर में शिवभक्तों को उपलब्ध कारायं, आपका आभारी रहुंगा ।

    सादर धन्यवाद

  3. Please send me this SHIVA LINGAM and it,s meanging in Gujarati.
    Please send me immediate Because I need it very much.
    OHM NAMH SHIVAY.

  4. Namaskar,
    main ye janana chahta hu ki ghar per shiv ling rakh sakte hai ya nahi? aur knyo?
    Please reply.

  5. namaskaram samarpayami ,,

    you are doing such a wonderfull job.
    plese send me link setting on my mail.

    namah shivay. har har mahadev |

  6. Jai Mahakal !
    Many site I searched for Shree Shiv Tandav Stotra with meaning in Hindi Language but, there is nothing any satisfactory site except Yours…! I am very very glad to thank you very much for this one.
    Shree Shiv Bless You…..!!!!!!!!!

  7. Jan Manas Dwara sada sada se pujit Shiv Ling ka eh satotar maha kalyan kari hai evam Shukh Dayak Hai. Dhnayavad

  8. I am very thankful to shivalaya, who provide the each and every information about the shiv puja and everyone should have to thanks to shivalaya

  9. om namay shivaye. main aapko bahut hi danayabad deta hoon. jo ki aap ne shiv stotar ka hindi mein anubad kiya. om namay shivaye

  10. wah whats nice job done by concern department, thanks for translation in hindi it is now easy for us to concentrate fully in shiva pujan by understanding in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *